अब जीडीए और परिषद में इंटर्नशिप कर सकेंगे छात्र, नहीं मिलेगा कोई भत्ता

गाजियाबाद। अब सिविल इंजीनियरिंग और आर्किटेक़र के छात्र गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) और आवास एवं विकास परिषद में इंटर्नशिप कर सकेंगे। इस बाबत प्रदेश सरकार द्वारा शासनादेश जारी कर दिए गए हैं। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, गाजियाबाद विकास प्राधिकरण और आवास एवं विकास परिषद में न्यूनतम 6 सप्ताह और अधिकतम 3 महीने की इंटर्नशिप की जा सकेगी। जिसका मुख्य उद्देश्य इस क्षेत्र के छात्रों को विकास प्राधिकरणों और विकास परिषदों की कार्यशैली ठीक प्रकार से समझ सके। बता दें कि प्रमुख सचिव आवास नितिन रमेश गोकर्ण ने जीडीए उपाध्यक्ष कंचन वर्मा को इस संबंध में एक पत्र भेजा हैं, जिसमें कहा गया है कि सिविल इंजीनियरिंग और आर्किटेकर स्नातक, परास्नातक के छत्रों तथा शोध करने वाले शोधार्थियों को इंटर्नशिप करने का अवसर दिया जाए, ताकि विद्यार्थी जान सकें कि शहर के विकास का खाका कैसे खींचा और तैयार किया जाता है। बताया जाता है कि इंटर्नशिप के दौरान नियोजन विभाग में मास्टर प्लान, जोनल प्लान, सेक्टर प्लान बनाने के बारे में उन्हें बताया जाएगा। इसके अलावा, बिल्डिंग बायलॉज, पुनर्विकास और संरक्षण से संबंधित गतिविधियों को समझने और आवास बनाने के लिए स्टैंडर्ड डिजाइन, अफोर्डेबल हाउसिंग, आवासीय पॉलिसी के मुख्य बिंदुओं का ज्ञान पाने का अवसर छात्रों मिलेगा। इस सम्बन्ध में जीडीए चीफ इंजीनियर विवेकानंद सिंह ने बताया कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट, पेयजल आपूर्ति, सीवरेज, ठोस कचरा प्रबंधन, डिजास्टर मैनेजमेंट, जीआइएस आदि के बारे में भी विस्तार से बताया जाएगा। उन्होंने कहा कि इंटर्नशिप के लिए चयन की जिम्मेदारी आवास बंधु को दी गई हैं। लिहाजा, इच्छुक विद्यार्थियों के आवेदन उनके पास भेजे जाएंगे। हालांकि इंटर्नशिप के दौरान कोई भत्ता नहीं दिया जाएगा। सिर्फ जीडीए और परिषद में बैठने के लिए ऑफिस दिया जाएगा।