डोकलाम विवाद छूटा पीछे, इस साल एक साथ ड्रिल करेंगी भारत और चीन की सेनाएं

बीजिंग। चीन और भारत डोकलाम विवाद को पीछे छोड़ अब रिश्तों को सुधारने की कोशिश में जुटे हुए हैं। इसी उद्देश्य के तहत इस साल के अंत में भारत-चीन मिलकर %मिलिट्री ड्रिल% करेंगे। ये मिलिट्री ड्रिल चीन में होगी। चीन के रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दोनों देशों में तेजी से रिश्तों में सुधार हो रहा है। एशिया के दो दिग्गजों भारत-चीन के बीच पिछले साल डोकलाम में सीमा विवाद को लेकर काफी उठा-पटक हुई थी। इस दौरान 73 दिनों तक भारत और चीन की सेना आमने- सामने थी। लेकिन अब हालात सुधर रहे हैं, दोनों पड़ोसी देश संबंधों की मुधरता को प्राथमिकता दे रहे हैं। अगस्त के महीने में चीन के रक्षा मंत्री वेई फेगेहे भारत की यात्रा पर आए थे और उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की थी। इस दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग पर नया द्विपक्षीय समझौता हुआ था। साथ ही इस बात पर भी रजामंदी जाहिर की गई थी कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच बातचीत को बढ़ाया जाएगा, ताकि फिर से डोकलाम जैसी स्थिति पैदा ना हो। चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वू कियान ने नियमित मासिक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि इस वर्ष के अंत से पहले भारत-चीन के बीच संयुक्त अभ्यास की योजना बनाई गई है। उन्होंने कहा कि ड्रिल की योजना के बारे में चर्चा करने के लिए अगले महीने दक्षिणपश्चिमी चीनी शहर चेंगदू में मिलेंगे। इससे ज्यादा जानकारी उन्होंने इस बारे में नहीं दी। गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच 1962 में युद्ध हुआ था। दोनों देशों के बीच 3,500 किमी (2,200 मील) लंबी सीमा को लेकर विवाद है, जिसे अभी तक सुलझाया नहीं गया है। लेकिन इसके बावजूद दोनों देश संबंधों को सुधारने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। एशिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाएं भारत-चीन हाल ही में अमेरिका के व्यापारिक प्रतिबंधों को लेकर भी एकमत नजर आए।