पीएमओ ने सीबीआई विवाद पर लिया बड़ा एक्शन

 सीबीआई में मचे घमासान के बाद देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी की बिगड़ती छवि को बचाने के लिए आखिरकार पीएमओ ने कड़े फैसले लिए और सीबीआई निदेशक समेत तीन बड़े अफसरों को छुट्टी पर भेज दिया. पीएमओ ने ये फैसला सीवीसी की सिफारिश के आधार पर किया. सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा और संयुक्त निदेशक राकेश अस्थाना की आपसी लड़ई ने देश की सबसे बड़ी और प्रतिष्ठित जांच एजेंसी पर बट्ट लगा दिया. एक दूसरे के खिलाफ घसखोरी के आरोपों और एफआईआर ने सरकार के भी कान खड़े कर दिए. आखिरकार पीएमओ ने रविवार की शाम सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा को बुलाकर पूरे विवाद पर रिपोर्ट ली. इसके बाद से ही माना जा रहा था कि सरकार सीबीआई की साख को बचाने के लिए कोई बड़ी कार्रवाई कर सकती है, मंगलवार की शाम से सीबीआई में अब तक के सबसे बड़े सफाई अभियान की शुरुआत हुई. सूत्रों के मुताबिक मंगलवार की शाम को सीबीआई निदेशक के खिलाफ शिकायत पर सीवीसी की बैठक हुई. बैठक में सीवीसी ने सीबीआई निदेशक पर लगे आरोपों को गंभीर माना और सरकार को सिफारिश भेजी. सूत्रों के मुताबिक सिफारिश में कहा गया कि आरोपों की निष्पक्ष जांच के लिए दोनों अफसरों यानी सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और संयुक्त निदेशक राकेश अस्थाना दोनों  को छुट्टी पर भेजा जाय।