पेटीएम मालिक से रंगदारी में नया मोड़, वकील ने कहा- सोनिया को भी मिली थी धमकी

 नई दिल्ली। देश की नामी मोबाइल वॉलेट कंपनी पेटीएम के मालिक विजय शेखर शर्मा से 20 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने के मामले में । नया मोड़ आ गया है। मामले में कंपनी की वाइस प्रेसिडेंट (वीपी) सोनिया धवन के वकील ने नोएडा पुलिस पर जांच में लापरवाही बरतने  का आरोप लगाया है। वकील का कहना है कि सोनिया से भी पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई थी। वह आज (मंगलवार को) कोर्ट में पेशी के दौरान संबंधित साक्ष्य प्रस्तुत  करेंगे। मालूम हो कि नोएडा पुलिस ने सोमवार को पेटीएम का गोपनीय डाटा चोरी कर मालिक से 20 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने के मामले में कंपनी की वीपी सोनिया धवन, उनके पति रूपक जैन और एक अन्य कर्मचारी देवेंद्र को गिरफ्तार किया था। सोनिया धवन विजय शेखर की निजी सचिव भी थी। आरोप है कि सोनिया ने कंपनी कर्मचारी देवेंद्र की मदद से कंपनी का गोपनीय डाटा चोरी कर लिया था। इसके बाद वह ; कोलकाता में मौजूद फरार एक अन्य आरोपी रोहित चोमल की मदद से कंपनी मालिक को ब्लैकमेल कर 20 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने लगी थीं। इस में सोनिया का पति रूपक जैन भी शामिल है। कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट व विजय शेखर शर्मा के भाई अजय शेखर शर्मा ने मामले में थाना सेक्टर 20 में रिपार्ट दर्ज कराई है। अब इस मामले में गिरफ्तार वीपी के वकील प्रशांत त्रिपाठी ने कहा है कि सोनिया धवन से भी पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई थी। सोनिया ने भी 15 दिन पहले थाना सेक्टर-39 में शिकायत दी थी। उनकी शिकायत पर नोएडा पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। फोन करने वाले ने सोनिया को बताया था कि उसे किसी ने रंगदारी मांगने के लिए कागज पर उनका फोन नंबर लिखकर दिया था। सोनिया के वकील प्रशांत त्रिपाठी के मुताबिक उन्हें रंगदारी के लिए फोन करने वाले ने धमकी दी थी कि अगर उन्होंने रुपये नहीं दिए तो सोनिया, उनके पति रूपक जैन और बेटे को जान से मार दिया जाएगा। प्रशांत त्रिपाठी के अनुसार अगर पुलिस पूरे मामले में सही से जांच कर कार्रवाई करती तो आज शायद सोनिया को जेल नहीं जाना पड़ता। वकील ने साजिश के तहत सोनिया को फंसाने का आरोप लगाया है। नोएडा पुलिस आज (मंगलवार को) मामले में गिरफ्तार तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करेगी।