पटना का PMCH बनेगा दुनिया का सबसे बड़ा अस्पताल, कैबिनेट की मिली मंजूरी

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में शनिवार को बिहार कैबिनेट की बैठक संपन्न हुई। बैठक में कुल 35 एजेंडों पर मुहर लगाई गई, जिसमें पटना के पीएमसीएच को विश्व का सबसे बड़ा अस्पताल बनाने के लिए 5540.07 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति दी गई है। अब पीएमसीएच अस्पताल में बेड़ों की संख्या 1754 से बढ़कर 5462 हो जायेगी। एमबीबीएस, पीजी और सुपरस्पेशलिटी की भी सीटें बढ़ जायेंगी।इतना ही नहीं, यहां वर्लड क्लास की चिकित्सकीय सुविधाएं मिलेंगी। उधर, बिहार गृह रक्षा वाहिनी के गृह रक्षकों का भत्ता/प्रशिक्षण भत्ता 400 से बढ़ा कर 774 रुपये प्रतिदिन कर दिया गया है। शनिवार को कैबिनेट की बैठक के बाद मंत्रिपरिषद विभाग के प्रधानसचिव संजय कुमार ने बताया कि कुल 34 प्रस्तावों को मंजूरी मिली है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने बताया कि कैबिनेट के इस निर्णय के तहत पीएमसीएच अपने विस्तारीकरण के बाद बेड़ों की संख्या के मामले में विश्व का सबसे बड़ा हॉस्पिटल बन जाएगा। वर्तमान में बेलग्रेड स्थित 3500 बेड का अस्पताल विश्व का सबसे बड़ा अस्पताल है। पीएमसीएच को विश्वस्तरीय अस्पताल में परिवर्तित किए जाने की योजना का क्रियान्वयन टर्नकी के आधार पर होगा। इसके निर्माण के साथ यहां एमबीबीएस की 150 सीटें बढ़कर 250 हो जाएंगी। पीएमसीएच विस्तारीकरण योजना के तहत परिसर में 450 बेड के धर्मशाला का भी निर्माण कराया जाएगा। कल 72.44 लाख वर्गफीट में ग्रीन बिल्डिंग का निर्माण होगा। कल 3.435 वाहनों के लिए  मल्टीलेवल कार पार्किंग का भी निर्माण होगा। मेडिकल गैस पाईप लाइन संयंत्र भी लगाया जाएगा। वहीं बिहार कैबिनेट की बैठक में सुखाड़ से निपटने के लिए 1400 करोड़ रुपये मंजूर किए गए। बिहार में 206 प्रखंड सूखे की चपेट में थे, जिसमें 69 और प्रखंड को सूखा घोषित किया गया है। अब कुल 275 प्रखंड सूखे से प्रभावित घोषित किए गए हैं। और सूखे से निपटने के लिए 1400 करोड़ रुपये स्वीकृत किये गए हैं। इसके साथ ही कैबिनेट ने जिला रिवॉल्विंग फंड को भी मंजूरी दी। सात साल के लिए रोड मेंटेनेंस का प्रस्ताव स्वीकृत, सात साल में इस मद में सरकार 14 हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी। ये राशि 14 हजार किलोमीटर रोड मेंटेनेंस पर खर्च होगी। नगर विकास में निकाय स्तर के इंजीनियरिंग कैडर में जूनियर इंजीनियर से लेकर चीफ इंजीनियर के पोस्ट सेंक्शन किए गए। पोस्ट सृजन : पर कैबिनेट की मुहर लगी और इसके साथ ही होमगार्ड जवानों का दैनिक वेतन बढ़ाया गया है।