राज बब्बर ने नक्सलवाद को बताया क्रांति, अमित शाह ने कहा-राहुल गांधी दें जवाब

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नक्सलवाद को लेकर अपना रुख स्पष्ट करें, शाह ने नक्सल प्रभावित राजनांदगांव जिले के खुज्जी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत अंबागढ़ चौकी में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस के एक नेता कल आए थे और उन्होंने बयान दिया कि नक्सलवाद क्रांति है. नक्सलवादी देश में क्रांति कर रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष नक्सलवाद के मुद्धे  पर अपना रूख स्पष्ट करें, आप की पार्टी के नेता नक्सलवाद को क्रांति कहते हैं, आप क्या मानते हैं. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने शनिवार को रायपुर में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा था कि गोलियां और बंदूकें नक्सलवाद का हल नहीं कर सकती है. धमकाकर, डराकर इस समस्या का हल नहीं निकाला जा सकता है. ऐसे लोगों को नहीं रोका जा सकता है। जिन्होंने क्रांति की शुरूआत कर दी है. हालांकि बब्बर ने इस मुद्दे पर अपनी सफाई भी दी थी. शाह ने कहा कि क्रांति नक्सलवाद से नहीं होती है, किसी का खून बहाकर नहीं होती है, । बम बंदूक और गोलियों से नहीं होती है. जब गरीब माताओं को गाय और भैंस देकर श्वेत क्रांति और दूध क्रांति करते हैं तब जाकर क्रांति होती है. गरीब के पेट में भूख की आग लगती है और दो रुपए किलो में वहां चावल पहुंचता है तब जाकर क्रांति होती है, गरीब के घर में बीमारी होती है और आयष्मान भारत योजना से गरीबों को पांच लाख रूपए तक इलाज का खर्चा मिलता है तब क्रांति होती है. जब किसान पसीना बहाता है और उसके फसल की डेढ़ गुना कीमत मिलती है तब क्रांति होती है. उन्होंने कहा कि वह छत्तीसगढ़ की जनता से कहने आए हैं कि कांग्रेस को नक्सलवाद के भीतर क्रांति दिखाई देती है और भाजपा को विकास के भीतर क्रांति दिखाई देती है. उन्होंने कहा, ''मैं छत्तीसगढ़ की जनता से पछता हूं कि आपको नक्सलवाद को क्रांति मानने वाली कांग्रेस पार्टी लानी है या विकास को क्रांति मानने वाली भाजपा लानी है. मैं पूछना चाहता हूं कि आपको नक्सलवाद फैलाने वाली कांग्रेस पार्टी चाहिए या विकास करने वाली भाजपा चाहिए. '' भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि 2018 का चुनाव छत्तीसगढ़ को नया छत्तीसगढ़ बनाने का है तथा समृद्ध छत्तीगसढ़ बनाने का है.